चीन ने खुद अपनी मुद्रा युआन की कीमत घटा दी

0
23
www.upnewz.in

चीन की मुद्रा युआन एक दशक में अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। लेकिन इसका कारण ट्रंप की व्यापार युद्ध की नीति से चीन को हो रहा नुकसान नहीं है। असल में चीन ने खुद ही मुद्रा अवमूल्यन का कदम उठाया है ताकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में निर्यात दरें घटें और उसके सामान की बिक्री बढ़ जाए। माना जा रहा है चीन का यह कदम न सिर्फ अमेरिका को खफा करेगा, बल्कि पूरी दुनिया में व्यापार युद्ध का खतरा पैदा हो सकता है।

मुद्रा कमजोर होने से बढ़ेगी चीनी सामान की बिक्री : दुनिया में बड़े निर्यातकों में से एक चीन ने अपने सामान की निर्यात दरों को घटा दिया है। आईएमएफ के मुताबिक, चीन ने अपनी मुद्रा 5 से 27 प्रतिशत घटाई है। इससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में दूसरे देश की सामग्री के मुकाबले चीनी सामग्री के दाम घट गए हैं। इसका सीधा फायदा उसे बिक्री बढ़ने में मिलेगा।

इस तरह वह अमेरिका द्वारा लगाए जा रहे ऊंचे शुल्क की नीति से अपनी अर्थव्यवस्था को बचा पाएगा।  विशेषज्ञ मान रहे हैं कि युआन का अवमूल्यन अभी शुरूआत है, जल्द ही दुनिया के दूसरे निर्यातक देश अपनी मुद्रा की कीमत घटाकर इस तरह ही अंतरराष्ट्रीय बाजार में फायदा लेना शुरू कर देंगे जिससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में सामान के मूल्य में असंतुलन पैदा होगा और वैश्विक मुद्रा युद्ध की स्थिति भी बन जाएगी।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of