गोण्डा-बेटी के जन्म पर मनेंगी खुशियां, घर आएगी ‘लक्ष्मी’

0
101
www.upnewz.in

श्याम बाबू कमल गोंडा

जन्म से लेकर स्नातक होने तक छः चरणों में मिलेेगें 15 हजार, कन्या सुमंगला योजना में करना होगा आवेदन

गोंडा बेटी के जन्म पर अब घर में लक्ष्मी आने की खुशियां मनाई जाएगीं। जन्म से लेकर स्नातक की पढ़ाई तक सरकार उसे छः चरणों में 15 हजार की धनराशि देगी। यह सब कन्या सुमंगला योजना के तहत संभव हो सकेगा। योजना का लाभ लेने के लिए आनलाइन व आफ लाइन आवेदन करना होगा। कन्या भू्रण, समान लैंगिक अनुपात, बाल बिवाह के साथ ही बालिका को स्वावलम्बी बनाने और शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने में यह योजना अत्यन्त कारगर साबित होगी। इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह ने बताया कि शासन के निर्देश पर महिला कल्याण विभाग ने योजना का लाभ देने के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक अप्रैल 2019 से कन्या सुमंगला योजना की शुरूआत की गई है। इस योजना में बेटी के जन्म से उसकी परवरिश ओर शिक्षा ग्रहण करने तक का खर्चा सरकार उठाएगी। सरकार निर्धारित धनराशि के रूप में बेटी के नाम से छः चरणों में एक मुश्त उपलब्ध कराएगी। एक ही परिवार की अधिकतम दो बेटियों के जन्म पर ही लाभ मिल सकेगा। समाज में भ्रूण हत्या को खत्म करने के साथ ही बेटियों को अच्छी शिक्षा व स्वास्थ्य देने के यह योजना बहुत की कारगर साबित होने जा रही है। योजना का लाभ एक अप्रैल 2019 से जन्मी बेटियों को मिलेगा। आचार संहिता हटने के बाद अब इस योजना पर तेजी से काम शुरू कर दिया गया है।

इन मानकों पर उतरना होगा खरा

योजना की पात्रता के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि लाभ लेने के लिए स्थायरी निवास प्रमाणपत्र के साथ आधार के रूप में एक आईडी देनी होगी। लाभार्थी की वार्षिक आय तीन लाख रूपए तक होनी चाहिए। दो बच्चों से अधिक होने पर इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।खास बात यह है कि किसी मिहला के दूसरे प्रसव से जुड़वा बच्चे होने पर तीसरे संतान के रूप में लड़की को भी लाभ मिल सकेगा। यहीं नहीं अगर पहले प्रसव से बालिका है तो दूसरे प्रसव से दो जुड़वा बेटियों के जन्म पर तीनों को लाभ दिए जाने का प्रावधान किया गया है।

छः चरणों में मिलेगें 15 हजार

पहले चरण जन्म पर दो हजार रूपए, दूसरा चरण एक वर्ष तक पूर्ण टीकाकरण पर एक हजार, तीसरे चरण में कक्षा एक में प्रवेश पर दो हजार रूपए, चैथे चरण मे कक्षा छः में बालिका के प्रवेश पर दो हजार रूपए, पांचवे चरण में कक्षा नौ में प्रवेश के बाद तीन हजार रूपए तथा छठें और अन्तिम चरण में 12वीं उत्तीर्ण कर स्नातक व दो वर्षीय डिप्लोमा में प्रवेध पर पांच हजार रूपए की धनराशि मिलेगी। उन्होने बताया कि लाभार्थी को धनराशि एसके खातों में आनलाइन भेजी जाएगी। इसके लिए आनलाइन या फिर कार्यालय पर आवेदन करना होगा योजना को लेकर सभी तैयारियां पूरी जा सकती है।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of