चुनाव खत्म होते ही सपा-बसपा गठबंधन में आई दरार ! उपचुनाव अकेले लड़ेंगी मायावती

0
181
Share the news

लोकसभा चुनाव खत्म होने में अभी ज्यादा दिन नहीं हुआ है लेकिन यूपी में सपा-बसपा गठबंधन में दरार के संकेत मिल रहे हैं. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने ऐलान किया है कि वह विधानसभा उपचुनाव अकेले लड़ेंगी. मायावती ने लोकसभा चुनाव में सपा के साथ गठबंधन के बावजूद उम्‍मीद के अनुरूप परिणाम न आने पर गुस्सा भी जाहिर दिया.

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली के सेंट्रल ऑफिस में सोमवार को पार्टी की समीक्षा बैठक की. इस बैठक में मायावती गठबंधन से नाखुश नजर आईं. मायावती ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि गठबंधन से पार्टी को कोई फायदा नहीं हुआ.

पार्टी पदाधिकारियों से मिले फीडबैक से मायावती नाखुश दिखीं. उन्होंने कहा कि गठबंधन का वोट लोकसभा चुनाव में ट्रान्सफर नहीं हुआ, इस कारण यूपी में होने वाले आगामी उपचुनाव में बसपा अकेले ही लड़ेगी.

बता दें कि लोकसभा चुनाव में बीएसपी के 11 प्रत्‍याशी ऐसे जीत कर संसद पहुंचे हैं, जो विधायक थे. उनके बाद इन खाली हुई विधानसभा सीटों पर छह माह के भीतर चुनाव होने हैं. इन 11 सीटों में से सपा और बसपा के भी एक-एक विधायक भी संसद पहुंचने में कामयाब रहे हैं. इसमें जलालपुर से बसपा विधायक रितेश पांडेय और सपा विधायक आजम खान संसद पहुंचे हैं.

बीएसपी का उपचुनाव लड़ने का फैसला भी चौंकाने वाला है. बीएसपी के इतिहास को देखें तो पार्टी ज्यादातर उपचुनाव नहीं लड़ती है. साल 2018 के लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में भी बीएसपी ने अपने प्रत्याशी नहीं उतारे थे. तब मायावती ने समाजवादी पार्टी को समर्थन देने का ऐलान किया था.

इसके बाद ही लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन बना था. हालांकि लोकसभा चुनाव में गठबंधन के मनमाफिक रिजल्ट नहीं आए. लोकसभा चुनाव में जहां बीएसपी को 10 सीटों पर जीत हासिल हुई वहीं सपा को पांंच सीटों पर जीत से संतोष करना पड़ा. यहां तक कि समाजवादी पार्टी अपने परिवार की भी तीन सीटें हार गई. अब अगर उपचुनाव में बीएसपी अकेले लड़ने का फैसला करती है तो गठबंधन के भविष्य पर सवाल उठाना लाजमी है.


Share the news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here